फ़ेस्बुक

फ़ेस्बुक है एक ऐसी नशा

जिसको पिए बिना ही

लोगों का नशा चढ़ जाए!

इस नशा को उतारें भी तो कैसे?

उतारे से भी उतारा नहीं जाता!!!

 

एक बार इसके चक्रव्यूह में

फंस गए,तो-

निकलने का रास्ता मनो भूल जाओगे!

 

कहते हैं कि समय नहीं है!

कहते हैं कि समय नहीं है!

पर,ऑनलाइन चैटिंग के लिए

युवकों के पास तो समय ही समय है!

 

अरे!ऑनलाइन चैटिंग की बात छोड़ो!

आज आप कहाँ गए थे,पूरा दिन क्या किया,

मूड ऑफ़ है या ठीक,दिल टूटा हुआ है कि प्यार से भरा हुआ,

इन सब की जानकारियाँ तो बिना पूछे ही

स्टेटस में अपडेट हो ही जाती हैं!!

 

और हाँ!तस्वीरों की बात कीजिए ही मत!

तस्वीरों के एल्बम तो ख़ूब जमकर भरे हुए होते हैं!

लड़कियाँ ख़ासकर,जहाँ जाए उनका मॉडलिंग शुरु हो जाती है!

भई!फेस्बुक में दोस्तों को अपने नए कपड़े,

लिप्स्टिक,जूते आदि को तो दिखाने की बात तो बनती है न बॉस!

 

लड़के,लड़के इन से भी ज़्यादा चालाक है!

आप लोगों को पता हैं कि ये बदमाश लड़के,

लड़कियों को ऑनलाइन लाइन माड़ते हैं?

पता हैं?बताऊँ कैसे?

अरे,सिम्पल-सी बात है न मामू!!

लड़कियों का दिल तो मोम के समान होता है न!

तो बस,लड़की के वॉल पर एक रोमांटिक गाना,

और उसकी फ़ोटो पर अच्छी-अच्छी कोमेंट्स पोस्ट कर दो!

और क्या?लड़की फँसी तो फँसी!!

 

अरे,आजकल के चोर-लुटेरे भी,

जी हाँ!चोर-लुटेरे भी,

पता है क्या करते हैं?

जहाँ-जहाँ पर उन्होंने चोरी की है न,

सब की तस्वीरें खींचकर,

फ़ेस्बुक पर उपलोड कर रहे हैं!

भई!गुण्डों को भी फ़ेमस बनने का कि नहीं!!

 

गुण्डों को पता ही नहीं चला कि

फ़ेस्बुक में अगर गुण्डे हैं,तो

पुलिस भी होंगे इच न?

ये फ़ेस्बुक,सोश्यल नेटवर्क से ज़्यादा तो

चोरों को पकड़वाने का अड्डा बन गया है!

 

वाह रे फ़ेस्बुक की दुनिया!

तू बस अपनी बुक में,

लिखते रहो दूसरों की दास्ताँ,

और ख़्वाइश हमारी यही रहेगी

कि तू जिए हज़ारों साल!!!